Network MarketingBusinessesNews

Network Marketing Objections Handling : गेस्ट के सभी सवालों का जवाब देने का सबसे आसान फार्मूला

Network Marketing Objections Handling. प्रेजेंटेशन से निकलने के बाद गेस्ट का बहुत सारा सवाल होता है, अगर आप अपने गेस्ट के सवालो का जवाब नहीं देंगे तो आपका गेस्ट नेगेटिव हो जाएगा और जोइनिंग नहीं लेगा। आपका सारा मेहनत बेकार हो जाएगा।

आज के इस लेख में मैं आप सभी को बताऊंगा की किसी भी सवाल का जवाब कैसे दें कि गेस्ट ज्वाइन हो जाए।

Network Marketing Objections Handling

महत्वपूर्ण बिन्दू

नेटवर्क मार्केटिंग में लोगों के आब्जेक्शन दो तरह के होते हैं।

1. Real Objection

गेस्ट वाकई में काम तो करना चाहता है लेकिन उसके मन में कई सवाल या शंका होती है उसे दूर करना चाहते हैं उनका सवाल रियल होता है, उसे Real Objection कहते हैं।

जैसे इसमें कुछ इस प्रकार से सवाल लोग करते हैं।

  1. मेंबर बनाने वाला काम तो नहीं है?
  2. आप कितना पैसा कमाते हैं ?
  3. मेरे पास समय नहीं है?

2. Fake objection

जो गेस्ट आपको साफ-साफ मना नहीं करते हैं वह आपसे ऐसे सवाल पूछते हैं जिसका जवाब ज्यादा तर नकारात्मक ही होता हैं और फिर वह आपसे कहते हैं मैं कह था यह बिजनेस ठीक नही है।

कुछ ऐसे सवाल है Fake objection का

  1. ऐसी कंपनी टिकती नहीं है बहुत सी ऐसी कंपनी आई और बहुत गई।
  2. क्या मेरी टीम काम नहीं करेगी तब भी पैसा आएगा?
  3. मेरी टीम टूट जाएगी तो क्या मुझे रॉयल्टी आएगा?

इस तरह के आब्जेक्शन को फेक आब्जेक्शन कहा जाता है।

Human psychology के अनुसार लोग डायरेक्टली मना नहीं कर सकते, इसलिए वह ऐसे सवाल के जरिए इनडायरेक्टली मना करते हैं।

  1. जैसे की सोच कर बताऊंगा।
  2. मेरा डिसीजन मेरे पापा लेते हैं।
  3. मैं अभी शुरू नहीं कर सकता।

और बहुत से लोग यह गलती करते हैं जिससे कि गेस्ट जॉइनिंग नहीं लेता है।

  1. वह सवालों के जवाब देने लगते हैं कभी भी सवाल का जवाब नहीं देना है।
  2. दूसरी गलती वह गेस्ट से बहस करने लगते हैं खुद को सही साबित करने के लिए और गेस्ट को गलत साबित करने के लिए वह बहस करने लगते हैं इससे गेस्ट को ठेस पहुंचता है यानी कि दुख होता है।

जैसे कि गेस्ट सवाल पूछता है की यह तो जोड़ने वाला काम है और आप बोलते हैं यह जोड़ने वाला काम नहीं है फिर गेस्ट दोबारा कहता है यह जोड़ने वाला काम है तो फिर आप उस गेस्ट को जवाब देने लगते हैं कि दुनिया में कौन किस से नहीं जुड़ा है पत्ता पेड़ से जुड़ा है और बटन कुर्ता से जुड़ा है इस तरह के अलग-अलग जवाब देकर आप उसे समझाने लगते हैं इससे बहस हो जाता है।

पर यहां पर आपको एक बात को ध्यान में रखना है की आप बहस जीत कर भी लोगों का दिल नहीं जीत सकते।

डायरेक्ट सेलिंग में लोग दिल से जुड़ते हैं बातों से नहीं इसलिए बहस से बचिए ।

Network Marketing Objections Handling

Powerful Statement

लोग गलत नहीं होते हैं उनके पास इंफॉर्मेशन गलत होती है तो आपको लोगों को ठीक नहीं करना है उनके इंफॉर्मेशन को ठीक करना है।

उनके सवालों का जवाब ना दें और ना उनसे बहस करें।

जब आपका गेस्ट आप से सवाल पूछे तो आपको कुछ इस तरह से जवाब देना है।

  1. गेस्ट के सवाल का जवाब ना दें उनके सवाल के बदले उनसे सवाल पूछें।
  2. अगर वह कुछ बोले तो उनके बातों को काटे नहीं उनकी बातों से एग्री हो जाए की आप बिल्कुल ठीक कह रहे हैं।

इससे यह होता है कि आपका गेस्ट यह समझता है कि आप उसको समझ रहे हैं, आपको पता है की गेस्ट गलत बोल रहा है फिर भी आप उसके बातों से एग्री हो जाए।

उसके बातो को एग्री करने के बाद आप यह 3 फार्मूला का इस्तेमाल करें।

  • FEEL
  • FELT
  • FOUND

इसका इस्तेमाल कैसे करना है उदाहरण के माध्यम से समझ लेते हैं।

इस फार्मूला का इस्तेमाल करके आप नेटवर्क मार्केटिंग के सारे आब्जेक्शन को हैंडल कर सकते हैं।

Network Marketing Objections Handling in Hindi

1. जैसे कि गेस्ट का सवाल है कहीं यह जोड़ने वाला तो काम नहीं है या कहीं यह मेंबर बनाने वाला काम तो नहीं है।

इसका जवाब आप आसानी से दे सकते हैं। आप मुस्कुरा कर बोले आप बिल्कुल सही कह रहे हैं जब मैंने भी पहली बार सेमिनार देखा था तो मुझे भी ऐसा ही लगा था कि यह तो जोड़ने वाला काम है।

लेकिन जब मैं अच्छे से ट्रेनिंग लिया और इसके बारे में डिटेल्स में जाना तब पता चला कि यह जोड़ने वाला काम नहीं है, बल्कि लोगों को एजुकेट करने वाला काम है, लोगों की जिंदगी बदलने वाला काम है, लोगों को मदद करने वाला काम है।

यह जवाब देने के बाद अगर आपका गेस्ट यह दोबारा सवाल पूछता है की यह जोड़ने वाला काम है तो आप उससे एक सवाल पूछिए आपने किसी दुकान से कोई सामान खरीदा और वह सामान आपको अच्छा लगा तो आप क्या करते हैं अपने दोस्तों को बताते है।

तो आपका गेस्ट कहेगा की हां बताते हैं तो फिर आपको वहां कितना पैसा मिलता है बताने के लिए फिर वह बोलेगा एक भी पैसा नहीं तो फिर आप बोलिए लेकिन इसी काम के लिए आपको इस बिजनेस में क्या क्या मिलता है आपको ट्रैवल फंड, कार फंड, Royalty nominee facilities और आपके कंपनी में जो बोनस मिलते हैं उसके बारे में भी बता सकते हैं।

2. मेरे पास समय नहीं है

तो इस सवाल के बदले आप उनसे एक सवाल पूछें की आप अपना ज्यादातर समय कहां पर इन्वेस्ट करते हैं तो वह बोलेंगे जॉब में तो फिर आप बोलिए कैसा रहेगा अगर आपको पूरी लाइफ में यह शब्द दोबारा बोलने का मौका ही ना मिले कि मेरे पास समय नहीं है।

बल्कि आपके पास समय ही समय होगा तो फिर वह बोलेंगे अच्छा रहेगा तब आप बोलिए तो आप काम स्टार्ट कीजिए और अच्छे से ट्रेनिंग लीजिए आपको समझ में आ जाएगा आप यहां से एक बार कामयाब हो गए तो आपके पास समय ही समय होगा या फिर आप इस सवाल का जवाब देने के लिए FEEL ,FELT , FOUND का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

जैसे कि आपके गेस्ट आपसे जब यह बोले कि मेरे पास समय नहीं है तो आप बोलिए आप बिल्कुल ठीक कह रहे हैं, जब मैं जॉब में था तब मेरे पास भी समय नहीं बचता था लेकिन मैंने पार्ट टाइम में इस बिजनेस को स्टार्ट किया और ट्रेनिंग लेना शुरू किया तब जाकर यह पता चला कि अगर मैं यहां पर एक बार कामयाब हो गया तो मेरे पास जिंदगी में हमेशा समय ही समय होगा।

मैं अपनी फैमिली को और अपने दोस्तों को ज्यादा समय दे सकता हूं और मैं खुद को भी ज्यादा समय दे सकता हूं या इसके अलावा आप जिस भी रीजन से काम कोई स्टार्ट किया है उस रीज़न को बता सकते हैं।

3. मेरे पास पैसा नहीं है

तो आप बोलिए आप सही कह रहे हैं मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ था जब मैं इस बिजनेस में आया था तब उस टाइम मेरे पास भी पैसे नहीं थे फिर मैं यह सोचा कि यह अपॉर्चुनिटी अगर मिस हो गई तो जिंदगी भर मेरे पास पैसा नहीं होगा।

इसलिए मैं एक बार लोगों से कर्जा लेकर इस काम को स्टार्ट किया और आज मैं अच्छा पैसा कमाता हूं अगर आपके पास पैसे की कमी नहीं थी तो आप FEEL ,FELT FOUND फॉर्मूला का इस्तेमाल करके आप दूसरे व्यक्ति के बारे में भी बता सकते हैं।

जैसे कि आप अपने से सीनियर का नाम लेकर बताइए कि उस सर के पास भी पैसे की प्रॉब्लम थी हमेशा पैसों को लेकर वह परेशान रहते थे उन्होंने सोचा कि कब तक यह सब चलेगा यही सोचकर उन्होंने लोगों से पैसा लेकर इस बिजनेस को स्टार्ट किया और आज वह मजे में है अच्छा पैसा कमा रहे हैं।

4. आप कितना पैसा कमाते हैं?

इस तरह के सवाल पर बहुत से ऐसे लोग हैं जो चुप हो जाते हैं क्योंकि उनको जुड़े हुए 3,4 महिने ही हुए होते हैं और नेटवर्क मार्केटिंग में शुरुआती चेक छोटा होता है इसलिए आपको सवाल के बदले सवाल ही पूछना है।

जैसे कि आप उनसे यह सवाल कर सकते हैं, आपके हिसाब से एक व्यक्ति को कितना पैसा कमाना चाहिए इस बिजनेस में।

अगर आप कंपनी के सिस्टम के अनुसार काम करेंगे तो आपने जितना बताया उससे भी ज्यादा कमा सकते हैं अगर गेस्ट आपसे दोबारा यह सवाल पूछता है की आप कितना पैसा कमाते हैं तो आप 25000 या 30000 आपको जितना भी बताना होगा उतना आप बता दीजिए कि इस महीने मेरा चेक 30,000 का आने वाला है, आपको यह नही बताना है की आया है आपको यह बताना है कि चेक आने वाला है क्योंकि झूठ नहीं बोलना है।

5. पापा से पूछ कर बताऊंगा

तो आप यहां पर भी FEEL, FELT, FOUND फॉर्मूला का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप यहां पर बोल सकते हैं, आप बिल्कुल ठीक कह रहे हैं किसी भी काम को शुरुआत करने से पहले अपने गार्जियन से पूछना बहुत ही जरूरी होता है।

जब मैं भी इस काम को स्टार्ट किया था तो उस टाइम मैंने भी अपने पापा से पूछा था लेकिन उन्होंने उस टाइम मना कर दिया फिर मैंने अपने सीनियर से सारी बातें बता दिया तो उन्होंने बताया कि तुमने जो प्रजेंटेशन एक घंटा में देखा था उसको कितना देर में अपने पापा से बताए हो तो फिर मैं बोला 2 मिनट में मैं पापा से सारी बातें बता दिया।

तो उन्होंने बोला अगर 1 घंटे की प्रेजेंटेशन को 2 मिनट में बताओगे तो घर वालों को क्या समझ में आएगा तो मैं अपने सीनियर की बात मानकर अपने पापा को अगले दिन प्रजेंटेशन में लेकर गया तब जाकर मेरे पापा को समझ में आया और आज वह मेरा पूरा सपोर्ट करते हैं और आज मैं इस लेवल पर हूं।

अगर आप भी मेरे ही तरह इस बिजनेस में कामयाब होना चाहते हैं तो कल अपने पापा को लेकर इस प्रेजेंटेशन में आइए इससे आपके पाप भी समझ जाएंगे और आप भी समझ जाएंगे तब आपके पापा भी आपको सपोर्ट करेंगे तब आप बहुत ही जल्द कामयाब हो जाएंगे।

6. इसमें Top के लीडर ही पैसा कमा पाते हैं, नए लोग पैसा नहीं कमा पाते हैं

तो आप बोलिए की आप बिल्कुल सही कह रहे हैं जब मैं भी शुरुआत में आया था तब मैं भी यही सोच रह था पर जब मैं अच्छे से ट्रेनिंग लिया और इसे गहराई से जाना तो मुझे पता चला कि यह सबके लिए बराबर का ही मौका होता है।

इसे और अच्छे से समझने के लिए चलिए एक उदाहरण के माध्यम से समझ लेते हैं।

जब आप ट्रेन का टिकट लेने जाते हैं तो सबसे पीछे लगे होते हैं लेकिन जब तक टिकट काउंटर तक पहुंचते हैं तब तक पीछे एक लंबी लाइन लग गई होती है उसी तरह इस बिजनेस में भी नए लोगों के लिए उतना ही अपॉर्चुनिटी है जो पुराने लोगों के लिए होती है।

7. इसमें हर कोई सफल नहीं होता ?

तो यहां पर भी आप यही बोल सकते हैं की आप बिल्कुल ठीक कह रहे हैं मुझे भी यही लगता है था कि इस बिजनेस में हर कोई सफल नहीं होता है। लेकिन जब मैंने इस बिजनेस के बारे में अच्छे से ट्रेनिंग लिया तब जाकर यह समझ में आया की जो व्यक्ति इस बिजनेस में मेहनत करता है, वह सफल जरूर होता है जो मेहनत नहीं करेगा वह कैसे सफल होगा।

आप दुनिया के किसी भी काम में देखिए तो जो ज्यादा मेहनत करता है वही सफल होता है और यहां पर आपको

  • GUIDLINE भी मिलता है
  • SUPPORT भी मिलता है
  • TRAINING भी मिलता है

इससे सफलता कई गुना बढ़ जाती है।

8. प्रोडक्ट Product बहुत महंगा है

तो आप बोलिए आप सही कह रहे हैं मुझे भी यही लगता था इसका प्रोडक्ट बहुत ही महंगा हैं लेकिन जब मैं ट्रेनिंग लिया तब मुझे पता चला की ट्रेडिशनल के मुकाबले इसका प्रोडक्ट सस्ता कैसे होता है, जब आप भी ट्रेनिंग लेंगे तब आप भी इसको देखते ही समझ जाएंगे।

9. सोच कर बताऊंगा

इसका मतलब आपका गेस्ट संतुष्ट नहीं है, आपके गेस्ट के मन में और भी डाउट है आप उनसे पूछिए आप किस बारे में सोचना चाहते हैं, प्रोडक्ट के बारे में या प्लान के बारे में या इंसेंटिव के बारे में।

आप बताइए तो मैं आपके कंफ्यूजन को दूर करने में कुछ मदद कर सकूं, उनसे आप तब तक सवाल पूछिए जब तक कि वह असली सवाल ना पूछ लें।

और फिर इसके बाद आप फील, फेल्ट, फाउंड फॉर्मूला का इस्तेमाल करके उनके सवालों का जवाब दीजिए।

इसमें एक बात आपको यह ध्यान में रखना है कि आपको क्या कहना है और क्या नहीं कहना है इसके बारे में भी अच्छे से जान लेते हैं।

Don’t s

यानी कि क्या नहीं करना है

  1. लोगों के सवालों का डायरेक्टली जवाब नहीं देना है।
  2. बहस नहीं करना है। क्योंकि बहस करने से लोगों के दिल को ठेस पहुंचता है और वह जॉइनिंग नहीं लेते हैं।

Do’s

यानी कि क्या करना है

  1. आपको सवाल के बदले सवाल पूछना है।
  2. उनके बातों को काटना नहीं है बल्कि एग्री करना है।
  3. FEEL , FELT, FOUND का इस्तेमाल करके आप उनको अच्छे से जवाब दीजिए कि मुझे भी ऐसा ही लगा था और जब मैंने ट्रेनिंग लिया तब मुझे पता चला कि ऐसा नहीं ऐसा होता है।

वह जो भी बोले चाहे वह गलत ही क्यों ना बोल रहें हो उसको एग्री कीजिए इससे गेस्ट को लगता है कि आप उसको समझ रहे हैं।

क्योंकि लोग गलत नहीं होते हैं उनके पास इंफॉर्मेशन गलत होती है।

यदि आप सभी को आज का हमारा यह लेख “Network Marketing Objections Handling : गेस्ट के सभी सवालों का जवाब देने का सबसे आसान फार्मूला” पसंद आया हो तो कृपया करके आप सभी हमारे इस लेख को अपने टीम के हर मेंबर के साथ जरूर शेयर करें ताकि वह सभी लोग भी “Network Marketing Objections Handling : गेस्ट के सभी सवालों का जवाब देने का सबसे आसान फार्मूला” के बारे में समझ सके और दूसरों को समझा सके।

इसे भी पढ़ें

आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

admin

Kritika Parate | Blogger | YouTuber,Hello Guys, मेरा नाम Kritika Parate हैं । मैं एक ब्लॉगर और youtuber हूं । मेरा दो YouTube चैनल है । एक Kritika Parate जिस पर एक लाख से अधिक सब्सक्राइबर हैं और दूसरा AG Digital World यह मेरा एक नया चैनल है जिस पर मैं लोगों को ब्लॉगिंग और यूट्यूब के बारे में सिखाता हूं, कि कैसे कोई व्यक्ति जीरो से शुरुआत करके एक अच्छा खासा यूट्यूब चैनल और वेबसाइट बना सकता है ।Thanks.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button